International shipping available by FedEx and DHL

International shipping available by FedEx and DHL

Baanka Logo
Baanka Logo
Blog2022-03-14T20:31:24+05:30

Blogs

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार राशि को देखते हुए इत्र का उपयोग करना लाभप्रद रहता है

आचार्य वराहमिहिर द्वारा रचित ज्योतिषशास्त्र के गम्भीर ग्रन्थ बृहत्संहिता में केशकल्प, दन्तकाष्ठ, सुगन्धित तैल, औषध-स्नान एवं विभिन्न औषधियों व प्रयोगों का उल्लेख किया है। परन्तु ज्योतिष के ग्रन्थों में इन प्रकरणों का कोई औचित्य प्रासंगिक नही लगता, परन्तु इन प्रकीर्ण प्रसंगों ने यह साबित कर दिया है कि वराहमिहिर आयुर्वेद, रसायन-शास्त्र के प्रखर विद्वान थे, और ग्रह-उपचार के तौर पर सुगन्धित द्रव्यों का भी प्रयोग किया जाता था। इन प्रसंगों से आयुर्वेद और ज्योतिषशास्त्र का अन्योन्याश्रित सम्बन्ध एवं घनिष्ठता स्वत: ही प्रमाणित होती है। रससिद्ध वैद्य होने के साथ आचार्य वराहमिहिर ने सुगन्धित इत्र बनाने की अनेक विधियों का

Attar and Islam

Attar and Islam Perfume has a long history as its use was known in ancient civilisations. It has had great significance since the advent of Islam until today. We knew it from the Arabs. It had been used since ancient times and was intended for religious and worldly purposes. It was considered one of the most important cosmetic supplements and desirable things. It also had an important role in the life of the Prophet Muhammad, peace be upon him. Perfume is one of the favourite Sunnahs, as the Prophet Muhammad, peace be upon him, used it and commanded his companions

Go to Top